सोमवार, 13 जुलाई 2009

मस्ती की पाठशाला

पाठशाला यह शब्द सुनते ही मन रोमांचित हो जाता है खास कर बच्चों का पढाई,मोटी मोटी किताबें ,गुरु जी की पिटाई ओफ्फ़ इतना सब कुछ एक साथ एक ही पाठशाला में ऐसा combo ऑफर तो कोई कंपनी वाले भी नहीं देते होंगे ! मेरी शिक्षा की शुरुआत हुई जब मैं ३ वर्ष का था ! गाँव के ही प्राईमरी पाठशाला में मेरा दाखिला करवाया गया कक्षा १ में ! घर के बहुत करीब होने के कारण मैं एक दम बिंदास हो के जाता था क्यूँ की मास्टर साहब गाँव के ही थे ! १० बजे से ही कक्षाएं शुरू हो जाती थी लेकिन मैं ११ बजे पंहुचता था एक दम हीरो बन के रंगीन कपड़ा पीठ पे झो़ले का बैग जिसमे तख्ती,श्याही ,गनवर की कलम,दवात और एक किताब होती थी ! सबसे पीछे बैठने के बाद मेरी पढाई शुरू होती थी तब तक अंग्रेजी की कक्षा बीत चुकी होती थी ! पूरे समय मैं उन्ही पांच चीज़ों में खोया रहता था कभी फूल बनाना कभी का खा गा लिखना और फिर मास्टर साहब की डांट गाय बनाने को कहा था गधा बना दिया बिलकुल अपनी तरह ! भोजनावकास के दौरान चोर पुलिस का खेल खेलना और छुपी छुपान खेलना ! शिक्षा का अभाव होने के कारण ४ साल की उम्र में शहर में एक जाने मने अंग्रेजी माध्यम स्कूल में मेरा दाखिला करवा दिया गया माँ और पिता जी का सपना था की मैं अंग्रेजी माध्यम से पढूं ! मुझे एक रिश्तेदार के यहाँ रखा गया मेरी माँ खूब रोई आखिर रोती भी क्यों न उनके जिगर का टुकडा उनसे दूर जो हो रहा था मैं भी खूब रोया लेकिन पिता जी के आगे एक न चली वो भी क्या करते दुःख तो उन्हें भी था! पिता जी मुझे स्कूल में छोड़ने गए तो जाते वक़्त मैं जोर जोर से रोना शुरू कर दिया मुझे नहीं पढना यहाँ मैं घर चलूँगा पापा ने घूर के पूछा किसान बनना है मैं रोते हुए बोला आप जो कहेंगे मैं वही करूँगा पर पढाई नहीं करूँगा फिर पिता जी ने जोर की डांट लगाई मैं चुप चाप क्लास में जा के बैठ गया ! वैसे स्कूल अछा था वहां मास्टर जी की जगह मैडम पढाती थी अंग्रेजी माध्यम होने के कारण मुझे शुरू शुरू में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा! मैडम कहती सिट डाउन तो मैं इधर उधर देखता रहता कई बार तो मेरी पिटाई भी हुई ! मेरा दाखिला दुबारा उसी कक्षा यानि १ में हुआ ! धीरे धीरे समय बीतता गया मेरा मन लगने लगा स्कूल में रोज सुबह तैयार हो के जाना स्कूल की पोशाक में और इंटरवल में खूब धमाचौकड़ी मचाना ! शाम को कमीज सफ़ेद से काली हो जाती कभी इंक की होली तो कभी धूल की होली ! पर पढाई में आगे न निकल पाए कारण अंग्रेजी में विषय होने के कारण समझ में ही नहीं आते तकरीबन कक्षा ३ तक तो मुझे अंग्रेजी समझने में ही लग गया उसके बाद सायद मैं एक बार कक्षा ५ में प्रथम आया था! कक्षा ६ में मेरा दाखिला दूसरे शहर में करवाया गया जगह नयी लोग नए काफी दिन एडजस्ट करने में लगा लेकिन यहाँ भी वही मजे! तब तक मैं बड़ा भी हो गया था शुबह स्कूल पंहुच जाना फिर प्रार्थन और फिर उसके बाद क्लास फिर इंटरवल यहाँ इंटरवल में एक खेल प्रचलित था फुटबॉल हम एक छोटी सी गेंद पर टूट पड़ते और धक्का मुक्की करते रहते घंटी बज जाती फिर वही क्लास शुरू! पढाई में तो मेरा मन लगता ही नहीं था हमेशा क्लास में पीछे बैठना और दोस्तों से गप्पें लड़ाना परीक्षा में भी मेरे अछे अंक नहीं आते ! पिता जी को सिकायत भेजी गई उसके बाद मुझे काफी डांट पड़ी! मार पीट में मैं बहुत आगे था बुल रेसलिंग मेरा प्रिये शौक था अपने किसी विरोधी को अक्सर मैं बुल रेसलिंग के लिए ललकारता था ! छुट्टी के समय मैं अक्सर लड़कों की पिटाई करता था नक़ल करने में भी अव्वल था ! खैर जैसे तैसे मैंने क्लास ८ पास किया उसके बाद उसी सहर में मेरा दाखिला इंटर कॉलेज में करवाया गया तब तक मेरे कुछ भाई टाइप के मित्र बन गए थे ! शुबह कॉलेज निकल जाना एक कॉपी ले के और दिन भर इधर उधर घूमना कॉलेज में मार पीट करना ! नक़ल करने में मैं उस्ताद था पुर्ची बना के ले जाता और परीक्षा के दौरान अक्सर लड़कों की कॉपी छीन लेता ! धीरे धीरे मैं स्कूल का सबसे बड़ा गुंडा बन गया मेरे शासन काल में कई युद्घ लड़े गए कुछ में हमारी जीत हुई कुछ में विरोधी दल की ! हम कॉलेज गोल मरने में बहुत आगे थे कोई कांती शाह की नई फिल्म लगी नहीं की हम देखने पंहुच जाते ! सीटिया बाजी भी मैंने जम के की मोहल्ले के टॉप सीटिया बाजों में मेरी गिनती होने लगी ! बोर्ड परीक्षा के दौरान अक्सर लड़के मुझे अपनी पुर्चियाँ दे देते क्यों की मेरी चेकिंग नहीं होती थी अन्दर जाते समय ! परीक्षा के दौरान अक्सर शिक्षकों से झड़प और फिर धमकी देना (गुरु जी बाहर मिलिए) ! १० वीं की परीक्षा में मेरे कुछ खास अंक नहीं आए पिता जी काफी नाराज हुए माँ ने भी खूब समझाया उसके बाद मैंने पढाई में ध्यान देना शुरू किया नतीजा १२ वीं में अछे अंको से पास हुआ सब लोग खुश हो गए पिता जी ने मुझे नयी साइकिल दी जो की तीसरे दिन ही चोरी हो गई थी बदले में मैंने उसी कॉलेज से एक साइकिल उठवा दी आखिर गुंडा जो था उस कॉलेज का ! फिर मेरा दाखिला लखनऊ के एक डेंटल कॉलेज में हुआ राजधानी की चकाचौंध में मैं खो सा गया था हॉस्टल में रहने के कारण कोई परिवार की बंदिश नहीं थी देर शाम तक राजधानी की सड़क पे घूमता रहता साल भर ऐसा घूमा की बस अपना मूल कर्तव्य (पढाई) ही भूल गया नतीजा अंक खराब आए पिता जी ने फिर समझाया ! यहाँ पे भी अपना सम्राज्य फैलाना शुरू किया कॉलेज के टॉप गुंडे को बुल रेसलिंग में हरा के कॉलेज के टॉप गुंडे का किताब जीत लिया ! यहाँ मैं कई बुरी आदतों से लैश हो गया लड़की पटाना , सिगरेट पीना,बियर पीना प्रमुख थे ! जैसे तैसे पढाई पूरी हुई ठीक ठाक अंकों से पास हो गया ! आज डॉक्टर बन गया हूँ ! मोह माया के जाल में फंसा बैठा हूँ पर गुंडागर्दी में कोई कमी नहीं आई है अभी भी माफिया मित्र हैं और कुछ अछे मित्र भी और अब मैं डॉन के नाम से पुकारा जाता हूँ!
पर मैं अपने वो दिन कभी नहीं भुला सकता और अक्सर भगवान् से यही मांगता हूँ की काश एक बार उस पल को फिर से जी पाता और अक्सर ये गाना गुनगुनाता हूँ
talli hoke girne se samjhi hamne gravity
ishq ka practical kiya tab aayi clearity
na koi padhne wala na koi sikhne wala
naata yeh sannata hai dekho lambu shor hain
har dil mein bud bud karta h2so4 hain
na koi padhne wala na koi sikhnewala
apni toh paathshala masti ki paathshala

5 टिप्पणियाँ:

SHIPRA ने कहा…

bro. mast likha hai nice

उन्मुक्त ने कहा…

'आज बेरोजगार डॉक्टर हूँ नौकरी के लिए जद्दोजहद कर रहा हूँ।'
अरे, डॉक्टर और बेरोजगार - प्राइवेट प्रैक्टिस शुरू कीजिये।

कृपया वर्ड वेरीफिकेशन हटा लें। यह न केवल मेरी उम्र के लोगों को तंग करता है पर लोगों को टिप्पणी करने से भी हतोत्साहित करता है। आप चाहें तो इसकी जगह कमेंट मॉडरेशन का विकल्प ले लें।

लगता है कि आप हिन्दी फीड एग्रगेटर के साथ पंजीकृत नहीं हैं यदि यह सच है तो उनके साथ अपने चिट्ठे को अवश्य पंजीकृत करा लें। बहुत से लोग आपके लेखों का आनन्द ले पायेंगे। हिन्दी फीड एग्रगेटर की सूची यहां है।

उन्मुक्त ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.
MOHD NADEEM ने कहा…

MR, PERFECTIONIST just like amir khan....

sandeepa ने कहा…

ohhh itna acha likha hai wakai masti ki pathshala good